Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari

matlabi rishte shayari

आजकल के इस दौरती भागती दुनिया में सब दुनिया के साथ चलना चाहता हैं जिसका परिणाम यह होता हैं की Rishtedar Matlabi हो जाते हैं| इस बात का सलूशन निकलने के लिए मैंने इस पोस्ट के माध्यम से कुछ ऐसे “matlabi rishte shayari | matlabi rishtedar quotes | matlabi rishtedar shayari” लाया हु जिसे वैसे लोगो के पास भेजकर उनकी औकात का याद दिला सकते हैं|

क्योंकी अगर आप अपने  रिश्तेदार से बहुत ज्यादा प्यार करने लगेंगे तो वो आपके सर पे चढ़ जायेगे| अगर आपके रिश्तेदार  बहुत Matlabi हो चूका है तो ये शायरी उनके पास भेजे| ताकि उनको अपना असली चेहरा पता चले| क्युकी Matlabi Rishtedar काफी खतरनाक होते हैं वो बस अपना काम निकाल लेंगे और आपको बहुत बड़े संकट में दाल देंगे| जो आपके लिए अच्छा नहीं है| आप matlabi rishte shayari | matlabi rishtedar quotes | matlabi rishtedar shayari  को भी बहुत शेयर करे|

Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari
Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari

Matlabi Rishte Shayari

मतलबी रिश्तो की बस इतनी सी कहानी है
अच्छे वक़्त में मेरी खूबियां, और
बुरे वक़्त में मेरी कमियां गिननी है

MATLABI RISHTON KI ITNI SI KAHANI HAIN
ACHCHHE VAKT ME MERE KHUBIYAN,  AUR
BURE VAKT ME MERI KAMIYAN JINAATE HAIN

इस दुनिया ने सिर्फ हमें मतलब के
लिए ही आज़माया है
मतलब निकल जाने के बाद,
हमें अजनबी बनकर ठुकराया है

IS DUNIYA NE SIRF HAME MATLAB
KE LIYE AZAMAYA HAIN
MATLAB NIKAL JANE KE BAAD
HAME AJNABI MANAKAR THUKARAYA
HAIN

बस इतना सा ख्वाब पूरा हो जाये,
तुम जिन्दगी भर के लिए मेरी हो जाओ

BAS ITNA SA KHAWAB PURA HO JAYE,
TUM JINDGI BHAR KE LIYE MERI HO JAO

matlabi rishte shayari

Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari
Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari

मतलबी लोग भी ना जाने कैसे कैसे
आपने मतलब निकल लेते है
अक्सर अपने मतलब के लिए ये
खून के रिश्ते भी भुला देते है !

MATLABI LOH BHI N JAANE KAISE KAISE
APNE MATLAB NIKAL LETE HAIN
AKSAR PANE MATLAB KE LIYE YE
KHUN KE RISHTE BHI BHULA DETE HAIN

कोई नहीं किसी का यहाँ,
सबको फायदे की लगी बीमारी है
लालच से चल रही ये दुनिया
सब मतलब की रिश्तेदारी है ।

KOI NAHI KISI KA YAHAN
SABKO FAYEDE KI LAGI BIMARI HAIN
LALACH SE CHAL RAHI YE DUNIYA
SAB MATLAB KI RISHTEDARI HAIN

ये झूठ है की इश्क में दिल टूट जाते हैं,
लोग खुद टूट जाते हैं इश्क करते करते

YE JUTH HAI KI ISHQ MEIN
DIL TUT JATE HAIN ,
LOG KHUD TUT JATE HAIN
ISHQ KARTW KARTE

matlabi rishtedar quotes 

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari
Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari

भुला देंगे तुम्हे भी जरा सब्र तो कीजिए
आपकी तरह मतलबी होने में जरा
वक्त लगेगा

BHULA DENGE TUMHE BHI, JARA
SABR TO KIJIYE
AAPKE TARAH MATLABI HONE ME
JARA VAKT TO LAGEGA

बिन तेरे मेरी हर ख़ुशी
अधूरी हैं
फिर सोच मेरे लिए तू कितना
जरुरी हैं

BIN TERE MERI HAR KHUSHI
ADHURI HAIN,
FIR SOCH MERE LIYE TU,
KITNA JARURI HAIN 

कुछ मतलबी लोग ना आते,
तो जिंदगी इतनी बुरी भी ना थी !

KUCHH MATLABI LOG NA AATE
TO JINDGI ITNI BURA BHI NA THA

matlabi rishtedar shayari

Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari
Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari

न परेशानियां, न हालात न ही कोई रोग है,
जिन्होंने हमें सताया है वो और कोई नहीं 
अपने ही लोग हैं।

NA PARESHANIYAN, NA HALAT, NA HI KOI ROG AHIN
JINHONE HAME SATAYA HAIN AUR KOI NAHI
WO APNE HI LOG HAIN

मुहब्बत ख़त्म नहीं हो सकती हाँ,
छुपाई जरुर जा सकती हैं

MUHABBAT KHATM NAHI HO SAKTI,
HAN, CHHUPAI JARUR JA SAKTI HAIN 

पक्के रिश्ते तो बचपन में बनते थे
अब तो लोग बात भी मतलब से करते है

PAKE RISHTE TO BACHPAN ME HI BANTE THE
AB TO LOG BAAT BHI TO MATLAB SE KARTE HAIN

matlabi shayari

Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari
Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari

बस यादें ही है जो बेवजह साथ देती है
इंसान तो सब मतलबी होते है

BAS YAADE HAI JO BEWAJAH SATH DETI HAIN
INSAN TO SAB MATLABI HOTE HAIN

टूटी उमीद फिर से जोड़ने लाया हु,
मै तुमसे मिलने तुम्हारे शहर आया हूँ

TUTE UMMID FIR SE JODNE
LAYA HU,
MAI TUMSE MILNE TUMHARE,
SHAHAR AAYA HU

मतलबी यारो का इतना सा फ़साना है
तू यार अपना, एक काम निकलवाना है

MATLABI YAARO KA ITNA SA FASANA HAIN
TU YAAR APNA, EK KAAM NIKALWANA HAIN 

matlabi log shayari

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari
Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari
 

पर अफ़सोस की
कुछ लोग दिल से उतर जायँगे

YEN JO HALAT HAIN MERE,  AAJ SUDHR JAYENGE
PAR AFSOS KI
KUCHH LOG DIL SE UTTAR JAYENGE

तुम्हे क्या बताये मेरी निगाहों में
क्या हो तुम
कहने से डरते है वरना कह देते
जान हो तुम

TUMHE KYA BATAYE MERI NIGAHON
TUM KYA HO TUM,
KAHNE SE DARTE HAIN WARNA KAH DETE,
JAAN HO TUM

मतलब होने तक शहद
और वैसे जहर समझते हैं लोग

Matlab hone tak shahad, aur
waise jahar samjhte hain log

matlabi dost shayari

Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari
Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari

मतलबी दुनिया हैं साहब
यहाँ लोग बिना मतलब के
मंदिर भी नहीं जाते

Matlabi duniya hain sabah
yahan log bina matlab ke
mandir bhi nahi jaate

टूटे उम्मीद फिर से जोड़ने लाया हु,
मै तुमसे मिलने तुम्हारे शहर आया हु

TUTE UMMID FIR SE JODNE
LAYA HU,
MAI TUMSE MILNE TUMHARE,
SHAHAR AAYA HU

एक एक के असलियत से
वाकिफ हु मैं
बेशक खामोश हु, अँधा
नहीं हु मैं

ek ek ke asliyat se
vakif hu mai,
besak khamosh hu, andha
nahi hu main

matlabi duniya shayari

सोशल distancing तो उनसे सीखो
जो अपन काम होते ही
नीकल जाता हैं

Social distancing to unse sikho
jo apna kaam hote hi nikal jata hain

ख़ुशी नहीं तो गम चाहते हैं,
ख़ुशी तो उन्हें मिले जींगे हम चाहते हैं

KHUSHI NAHI TO GAM
CHAHTE HAIN,
KHUSHI TO UNHE MILE, JINHE 
HAM CHAHTE HAIN 

उस समय रूह गयी थी, मेरी
काप
जब देखा मैंने कितने पाल रखे
आस्तीन के सांप

us samay ruh gayi thee meri kaap,
jab dekha
maine kitne paal rakhe hain aastin ke saap

matlabi paise ki duniya hai shayari

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

लहजे सब याद हैं मुझे
खामोश हु बस, वक्त का
इन्जार हैं मुझे !!

lahje sab yaad hain mujhe
khamosh hu bas, vakt ka
intzar hain mujhe

नहीं होते हो तब भी होते हो तुम,
हर वक्त जाने महसूस होते हो तुम

NAHI HOTE HO TO BHI HOTE 
HO TUM,
HAR WAKT JANE MAHSUS HOTE
HO TUM

मेरे पापा कहते हैं की
अपने सपनो को आगे रखो,
रिश्तों का आज के मामले में
कोई भरोसा नहीं !!

mere papa kahte hain ki
apne sapno ko aage rakho
rishto ka aaj ke mamle me
koi bharosha nahi

matlabi shayari in hindi

रिश्ते कभी ज़िन्दगी के साथ नहीं चलते,
रिश्ते एक बार बनते हैं, फिर ज़िन्दगी
रिश्तों के साथ चलती है

rishte kabhi jindgi ke sath nahi chlate,
rishte ek baar bante hain, fir jindgi
rishton ke sath chalti hain

मुखौटे बचपन में देखे थे
मेले में टंगे हुए, समझ बढ़ी तो
देखा लोगों पे है चढ़े हुऐ

Mukhaute bachpan me dekhe the
mele me tange huye,
samajh badhi to dekha logo pe hain
chadhe huye

नहीं पसंद मुहब्बत में मिलावट मुझको,
अगर वो मेरा है तो,
ख्वाब भी मेरा ही देखे

NAHI PASAND MOHABBAT ME
MILAWAT MAJHKO
AGAR WO MERA HAIN, TO KHWAB
BHI MERA HI DEKHE

matlabi logo ke liye shayari

कुछ यूँ हुआ कि, जब भी
जरुरत पड़ी मुझे हर शख्स मिला
पर जो भी मिला अपने मतलब से मिला !!

kuchh yun hua ki
jab bhi jarurat padi mujhe har sakhsh mila
par jo bhi mila apne matlab se mila

अब नहीं समझते मुनासिब
उनकी गलियों में जाना
सुना हैं उनकी आँखे, किसी
और की राहें देखती हैं

Ab nahi samjhate munasib
unki galiyon me jana
suna hai unki ankhe,
kisi aur ki raahe dekhti hain

मुहब्बत की तुमसे, बेफिक्र रहो,
नाराज़गी हो सकती हैं, पर नफरत
कभी नहीं

matlabi duniya shayari in hindi

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

MUBAHHAT KI TUMSE, BEFIKR RAHO
NARAZGI HO SAKTI HAIN, PAR NAFRAT
KABHI NAHI

चलो इस मतलबी दुनिया में
 थोडा जी लेते हैं.
सब काम छोडो,
पहले थोडी चाय पी लेते हैं..!!

Chalo ish matlabi Duniya Mein
Thora jee Lete hain.
Sab kam choro,
Pahle thori Chay Pee lete hain..!!

रिश्ते की सिलाई
अगर भावना से हुई है, तो टूटना मुश्किल है,
और अगर स्वार्थ से हुई है, तो टिकना मुश्किल है…

Rishte Ki Silai

Agar Bhavnao Se Hui Hai, To Tutna Mushkil Hai,
Aur Agar Swarth Se Hui Hai, To Tikna Mushkil Hai…

मशहूर होना लेकिन कभी मगरूर मत होना,
चू लो कदम कामयाबी के लेकिन अपने से कभी दूर मत होना,
ज़िंदगी में ख़ूब मिल जाएगी दौलत और शोहरत मगर,
अपने ही आखिरी अपने होते हैं ये बात कभी भूल ना जाना…

Mashoor Hona Lekin Kabhi Magroor Mat Hona,
Chu Lo Kadam Kaamyabi Ke Lekin Apno Se Kabhi Door Mat Hona,
Zindagi Mein Khoob Mil Jaayegi Daulat Aur Shohrat Magar,
Apne He Aakhir Apne Hote Hain Ye Baat Kabhi Bhool Na Jaana…

matlabi pyar shayari

जो कोई समाज ना सके वो बात हैं हम,
जो ढल के नहीं सुबह लाए वो रात हैं हम,
छोड़ देते हैं लोग रिश्ते बनार,
जो कभी ना चुप वो साथ हैं हम…

Jo Koi Samajh Na Sake Wo Baat Hain Hum,
Jo Dhal Ke Nahi Subah Laaye Wo Raat Hain Hum,
Chhod Dete Hain Log Rishte Banakar,
Jo Kabhi Na Chute Wo Sath Hain Hum…

रिश्ते कांच की तरह होते हैं,
टूट जाये तो चुभते हैं,
इन्हे संभलकर हाथी पर सजना,
क्यूंकी इन्हे तूने में एक पल,
और बनाने में बरसो लग जाते हैं…

Rishtey Kaanch Ki Tarah Hote Hain,
Tut Jaaye To Chubhte Hain,
Inhe Sambhalkar Hatheli Par Sajana,
Kyunki Inhe Tutne Mein Ek Pal,
Aur Banane Mein Barso Lag Jaate Hain…

कुछ मीठे पल याद आते हैं, पालकों पर आसू छोड़ जाते हैं,
कल कोई और मिल जाए तो हमें ना भुलना,
क्यों कुछ रिश्ते उमरा भर काम आते हैं…

Kuch Meethe Pal Yaad Aate Hain, Palkon Par Aasu Chhod Jate Hain,
Kal Koi Aur Mil Jaaye To Humein Na Bhulna,
Kyunki Kuch Rishte Umra Bhar Kaam Aate Hain…

sad matlabi shayari

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

दूर हो जाने से रिश्ते नहीं टूटते, ना ही सिरफ पास रहने से जुड़े हैं,
ये तो दिलो के बंधन है इस्लीए,
हम तुम्हें और तुम हम नहीं भुलते…

Door Ho Jaane Se Rishte Nahi Tut Te, Na He Sirf Paas Rehne Se Judte Hain,
Ye To Dilo Ke Bandhan Hai Isliye,
Hum Tumhe Aur Tum Humein Nahi Bhulte…

एक बात ध्यान रखना मेरे दोस्त
रिश्ते सारे नहीं, कुछ ही
खाश होते हैं
और बाकी सब तो मतलब के लिए आपके
साथ होते हैं

EK BAAT DHAYAN RAKHAN MERE DOST
RISHTE SAARE ANHI, KUCHH HI KHASH
HOTE HAIN
AUR BAAKI SAB KO MATLAB KE LIYE
AAPKE SATH HOTE HAIN

यकीन मानो की बुरे भी
बहुत अच्छे होते हैं, दिखा देते हैं
अपने असलियत में कैसे होते हैं

YAKIN MANO KI BURE BHI
NAHUT ACHHE HOTE HAIN, DIKHA
DETE HAIN
APNE ASLIYAT ME KAISE HOTE HAIN

Matlabi dost shayari in hindi

ये मतलब की दुनिया हैं ये मेरे दोस्त
जब तक मतलब हैं सब अपने हैं
जब मतलब ख़तम तब सब ख़तम

YE MATLAB KI DUNIY HAI YE MERE DOST
JAB TAK MATLAB HAIN SAB APNE HAIN
JAB MATLAB KHATM SAB KHATM

मिलने को हर सख्श हमें प्यार से मिला
पर जो मिला किसी न किसी काम से मिला

MILNE KO HAR SAKHSH HAME
PAYAR SE MILA
PAR JO MILA KISI NA KISI
KAAM SE MILA

लोग बहुत अच्छे हैं, लेकिन
सिर्फ अपने मतलब तक

LOG BAHUT ACCHCHHE HAI, LEKIN
SIRF APNE MATLAB TAK

matlabi shayari 2 lines

सिर्फ एक गलती की देर होती हैं
लोग भूल जायेंगे की, तुम पहले
कितने अच्छे थे

SIRF EK GALTI KI DER HOTI HAIN
LOG BHUL JAYENGE KI, TUM PAHLE
KITNE ACHCHHE THE

जिसने भी चाहा बस, मतलब
तक ही चाहा

JISNE BHI CHAHA , BAS MATLAB
TAK HI CHAHA

छोड़ दो वो रास्ते,
नहीं तो खंज़र मार देगा कोई
मतलबियों के रास्ते,
सिर्फ मतलबियों को ही भाता हैं

CHHOD DO WO RASHTEN
NAHI TO KHANZAR MAAR DEGA KOI
MATLABIYON KE RASHTEN SIRF
MATLABIYON KO HI BHATA HAIN

shayari on matlabi insan

ये जो चिंता हो रही हैं,
इसका दाम बोलिए
अच्छा! याद आई हैं मेरी,
तो फिर काम बोलिए

YO JO CHINTA HO RAHI HAIN
ISKA DAAM BOLIYE
ACHHA YAAD AAI HAI, MERI
TO FIR KAAM BOLIYE

सिगरेट मत बनो की,
इस्तेमाल के बाद फेक दिए जाओ
नशा बनो, की तुम्हे इस्तेमाल करने
वाला तबाह हो जाये

ISHTEMAL KE BAAD FEK DIYE JAO
NASHA BANO, KI TUMHE ISHTEMAAL
KARNE WALA TABAH HO JAYE

जमाना ख़राब नहीं हैं रे,
आज कल के लोग ख़राब हैं

JAMANA KHARAB NAHI HAINRE,
AAJKAL LOH KHARAB HAIN

matlabi log shayari in hindi

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

एक बात ध्यान रखना मेरे दोस्त
रिश्ते सारे नहीं, कुछ ही
खाश होते हैं
और बाकी सब तो मतलब के लिए आपके
साथ होते हैं

EK BAAT DHAYAN RAKHAN MERE DOST
RISHTE SAARE ANHI, KUCHH HI KHASH
HOTE HAIN
AUR BAAKI SAB KO MATLAB KE LIYE
AAPKE SATH HOTE HAIN

यकीन मानो की बुरे भी
बहुत अच्छे होते हैं, दिखा देते हैं
अपने असलियत में कैसे होते हैं

YAKIN MANO KI BURE BHI
NAHUT ACHHE HOTE HAIN, DIKHA
DETE HAIN
APNE ASLIYAT ME KAISE HOTE HAIN

ये मतलब की दुनिया हैं ये मेरे दोस्त
जब तक मतलब हैं सब अपने हैं
जब मतलब ख़तम तब सब ख़तम

YE MATLAB KI DUNIY HAI YE MERE DOST
JAB TAK MATLAB HAIN SAB APNE HAIN
JAB MATLAB KHATM SAB KHATM

matlabi dhoka shayari

मिलने को हर सख्श हमें प्यार से मिला
पर जो मिला किसी न किसी काम से मिला

MILNE KO HAR SAKHSH HAME
PAYAR SE MILA
PAR JO MILA KISI NA KISI
KAAM SE MILA

लोग बहुत अच्छे हैं, लेकिन
सिर्फ अपने मतलब तक

LOG BAHUT ACCHCHHE HAI, LEKIN
SIRF APNE MATLAB TAK

सिर्फ एक गलती की देर होती हैं
लोग भूल जायेंगे की, तुम पहले
कितने अच्छे थे

SIRF EK GALTI KI DER HOTI HAIN
LOG BHUL JAYENGE KI, TUM PAHLE
KITNE ACHCHHE THE

matlabi dost shayari in english

जिसने भी चाहा बस, मतलब
तक ही चाहा

JISNE BHI CHAHA , BAS MATLAB
TAK HI CHAHA

छोड़ दो वो रास्ते,
नहीं तो खंज़र मार देगा कोई
मतलबियों के रास्ते,
सिर्फ मतलबियों को ही भाता हैं

CHHOD DO WO RASHTEN
NAHI TO KHANZAR MAAR DEGA KOI
MATLABIYON KE RASHTEN SIRF
MATLABIYON KO HI BHATA HAIN

ये जो चिंता हो रही हैं,
इसका दाम बोलिए
अच्छा! याद आई हैं मेरी,
तो फिर काम बोलिए

YO JO CHINTA HO RAHI HAIN
ISKA DAAM BOLIYE
ACHHA YAAD AAI HAI, MERI
TO FIR KAAM BOLIYE

matlabi friend shayari

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

सिगरेट मत बनो की,
इस्तेमाल के बाद फेक दिए जाओ
नशा बनो, की तुम्हे इस्तेमाल करने
वाला तबाह हो जाये

ISHTEMAL KE BAAD FEK DIYE JAO
NASHA BANO, KI TUMHE ISHTEMAAL
KARNE WALA TABAH HO JAYE

जमाना ख़राब नहीं हैं रे,
आज कल के लोग ख़राब हैं

JAMANA KHARAB NAHI HAINRE,
AAJKAL LOH KHARAB HAIN

डूबे हुए को हमने, बिठाया
था अपनी कश्ती में यारों
और फिर कश्ती का बोझ
कहकर, हमें ही उतारा गया

Dube huye ko hamne, bithaya
thaa apni kshti main yarro,
aur fir kashti ka bhojh kahkar,
hame hi utara gya

matlabi shayari in english

औकात मेरी छोटी लेकिन
सपने बहुत बड़े थे, नज़र
घुमा के देखा, मेरे अपने ही
दुश्मन बनकर खड़े थे

Aukat meri chhoti lekin
sapne bahut bade the, najar
ghuma ke dekha, mere apne
hi dushman bankar khade the

कुछ मतलबी लोग
न आते तो
जिन्दगी इतनी बुरी भी
नहीं  थी

Kuchh matlabi naa aate to,
jindgi itni buri bhi nahi hoti

मैंने अपनी जिन्दगी में
सारे महंगे सबक
सस्ते लोगो से ही सिखा हैं

Maine apni jindgi me,
saare mahnge sabak
saste logo se sikha hain

shayari matlabi

शिकायत नहीं करनी
बस इतना सुन लो
मै खामोश हु और वजह
सिर्फ तुम हो

shiyakat nahi karni
bas itna sun lo
mai khamosh hu, aur
wajah tum ho

अगर किसी की इज्ज़त न करनी
हो तो, मत करो लेकिन
चार लोगो के साथ बैठकर
किसी की बेइजती मत करो

agar kisi kisi ki izzat na karni ho to
mat karo, lekin
chhar logo ke sath baithkar,
kisi ki beijati mat karo

जहाँ पर हर बार अपनी बातों की
सफाई देनी पड़ जाये,
वो रिश्ते कभी सच्चे और गहरे
नहीं होते

jahan par har baar apni baaton ko
safai deni pad jaaye,
we rishte kabhi sachche aur
gahde nahi hote

dost matlabi shayari

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

वक्त सब दिखा देता हैं
लोगो का साथ भी
लोगो का औकात भी

vakt sab dikha deta hain
logon ki sath bhi, aur
logon ki aukat bhi

कब साथ निभाते हैं लोग
आशुओ की तरह बदल जाते हैं लोग
वो जमाना और था,
लोग रोते थे गैरों के लिए
आज तो अपनों को रूलाकर
मुस्कराते है लोग

kab sath nibhate hain log
aashu ki tarah badal jate hain log
wo jamana aur tha, log rote the
gairon kr liye, ajkal to apno ko
rolakar muskarate hain log

न करो जुर्रत, किसी के वक्त पे
हंसने की कभी,
यह वक्त हैं जनाब, चेहरे
याद रखता हैं

na karo jurrat, kisi ke vakt pe
hasne ki kabhi
yah vakt hain janab, chehre
yaad rakhte hain

हिशाब किताब हमसे न पूछ अब,
ये जिन्दगी
तूने सितम नहीं गिने,
तो हमने भी जख्म नहीं गिने

hishab kitab ab hamse na puchh, ye jindgi
tune sitam nahi gine, to
hamne bhi jakhm nahi gine

इस मतलबी दुनिया में कोई साथ नहीं देता
हर कोई ठुकरा जाता है
पहले तो कहते हैं हम तुम्हारे ही है
मतलब निकाल बेवफा हो जाता है

Es Matalbi Duniya Mein Koi Saath Nahi Deta
Har Koi Thukra Jaata Hai
Pahle To Kahte Hain Hum Tumhare Hi Hai
Matalab Nikaal Bewafa Ho Jaata Hai

अब कटेगी ज़िंदगी … लगता है सुकून से ..
खम्बखक्त हम भी कुछ मतलबी हो गये है ..

Ab kategi Zindagi … lagta hai sukun se ..
Kambakhakt hum bhi kuch Matlabi ho gaye hai ..

Matlabi Rishtedar Shayari In Hindi

ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari काफी नए हैं आपको यह सब पढ़कर कैसा लग रहा हैं|इसी तरह मैंने और भी बहुत सारा शायरी एंड कोट्स पोस्ट किया जिन्हें आप पढ़ सकते हैं|अगर आपको पोस्ट पसंद आ रहा है शेयर करना न भूले|

मतलब की दुनिया में जिया नहीं जाता
बेवफाओं से इश्क़ अब किया नहीं जाता
शराब पी पी कर बहुत जी लिया
अब यह ज़हर के सहारे जिया नहीं जाता

Matlab Ki Duniya Mein Jiya Nahi Jaata
Bewafaon Se Ishk Ab Kiya Nahi Jaata
Sharab Pee Pee Kar Bahut Ji Liya
Ab Yeh Zahar Ke Sahare Jiya Nahi Jaata

जो कोई समझ ना सके वो बात हैं हम,
जो ढाल के नही सुबह लाए वो रात हैं हम,
छोड़ देते हैं लोग रिश्ते बनाकर,
जो कभी ना छूटे वो साथ हैं हम…

Jo Koi Samajh Na Sake Wo Baat Hain Hum,
Jo Dhaal Ke Nahi Subah Laaye Wo Raat Hain Hum,
Chhod Dete Hain Log Rishtey Banakar,
Jo Kabhi Na Chute Wo Saath Hain Hum…

प्यासी ये निगाहें तरसती रहती है
तेरी याद मे अक़्सर बरसती रहती है
हम तेरे खयालों मे डूबे रहते है
और ये ज़ालिम दुनियां हम पर हंसती रहती है

Matlabi रिश्तेदार कई प्रकार के होते हैं जो आपको सामने से दिखा देता है की वह Matlabi हैं लेकिन ऐसे भी होते हैं जो कभी आपको सक भी होने देता की वह Matlabi हैं| अगर कुछ ऐसे Matlabi Rishtedar हैं जी आपको दिखा कर Matlabi बनता हैं तो वह कुछ देर के सही हैं क्युकी इसमें आपको पहले से पता होता हैं की वह Matlabi हैं| इस्ससे होता ये हैं की आप पहले से उनसे सचेत हो जाते हैं| लेकिन जो Matlabi Rishtedar आपको पता नहीं लगने देता की वह मत्लाभी वह और ज्यादा कतारनाक होता हैं| क्युकी आपको ये कभी मालूम नहीं होता की वह कब आपको धोखा दे सकता हैं  आप लोगो से निवेदन हैं की प्लीज अपने दोस्तों तथा अपने रिश्तेदारों के साथ share करे|

अगर आप Facebook status, Whatshapp status के तलाश में हैं तो आप बिलकुल सही वेबसाइट पर आये हो| क्युकी यहाँ सभी प्रकार के शायरी status, Quotes तथा wishes देखने को मिलेगा| जो की काफी अच्छा और नया होगा| आजकल सभी लोगो के मुह से हमेशा सुनते हैं की आजकल के Rishtedar Matlabi हो गया हैं| यह बात 100 प्रेसेंट तो सत्य नहीं हैं लेकिन काफी हद तक इसमें सचाई है|मैंने इस पेज में मैंने बहुत सारा Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari आपके लिए पोस्ट किया हैं|

जिसे आप आसानी से कॉपी करके अपने चाहने वालों को भेज सकते हैं। ये सभी Matlabi Rishte Shayari | Matlabi Log Shayari | Matlabi Dost Shayari शायरी आपको कैसी लगी मुझे कमेंट करके जरुर बताये| साथ ही साथ अगर इसीतरह के शायरी एंड कोट्स के लिए आप मुझे जुड़ना चाहते है तो मुझे सभी सोशल मीडिया पर FOLLOW करें| Follow onInstagram, Follow onTwitter, Follow onFacebook.  जिससे आपको ये भी फायदा होगा की जैसे ही कोई नया पोस्ट पब्लिश होगी आपके पास notification चला जायेगा| अगर आपकी कोई सुझाव या कोई परेशानी हो तो मेरे से कांटेक्ट करे| या आपको कोई शायरी सबमिट करनी हो तो तो आप Contect Us पेज को fil कर सकते हैं|

admin

मेरा नाम सुमित सौरभ हैं |मै बिहार का रहने वाला हूँ| मै अपने website के माध्यम से आप लोगो को साभी प्रकार के शायरी देने की कोशिस करता हूँ|

Leave a Reply